आवश्यक सुचना।

कोरोना वायरस से बचने के लिए अपने घर पर ही रहें। कोरोना वायरस से लड़ने में अपना सहयोग दें। सरकार के निर्देशों और Lockdown का पालन करें धन्यवाद। Author- आकाश यादव।

A Bhuari Lyrics-Ritesh Pandey- Antara Singh - ऐ भुअरी

Ae Bhuari Lyrics - Ritesh Pandey.


Album :- Ae Bhuari.

Song :- Ae Bhuari.

                                      Singer :- Ritesh Pandey, Antra Singh Priyanka.

Lyrics :- Munna Mohit.

               Music Director :- Ashish Verma.

Video Director :-

Company/ Label :- Wave.

         Digital Managed by – Lokdhun.


Ae Bhuari Lyrics, ए भुअरी, गाना रितेश पाण्डेय का नई रिलीज़ एलबम

हाय रे झुलनियाँ (Haay Re Jhulaniya Album Video) का है। ए भुअरी 

(A Bhuari Lyrics) को रितेश पाण्डेय और अंतरा सिंह प्रियंका ने एक 

साथ गाया है। तो इस पोस्ट में मैं आप लोगों के लिए ऐ भुअरी (A Bhuari 

Lyrics) का लिरिक्स लेकर के आया हूँ।

A Bhuary Lyrics-Ritesh Pandey- Antara Singh - ऐ भुअरी।

Dhak Dhak ! Dhak Dhak !

Dhak Dhak ! Dhak Dhak !

Dhak Dhak Karata Jiyarwa Ho

Jaan Lagata Darwa Ho

Are Mauka Pa Dhokha Karabu Ka

Kuhukata Hiyarwa Ho

Na Na Aaj Nahi Kalhu Bhinusare.

Samajhal?

Ae Bhuwari Mile Aibe Ki Na Re

Kaise Sona ?

Ham Johatani Nadiya Ke Kinare

Pagal Mat Bana !


Maai Biya Gharwa Duarwa Pa Bhai

Ae Ho Kareja Kaha Kaise Aayin?

Are Aehi Tare Bharmawelu

Khali Hamara Ke Pagal Banawelu

Janu Tohare Ke Dilwa Pukare

Ae Bhuwari Mile Aibe Ki Na Re

Kaise Aayi ?

Ham Johatani Nadiya Ke Kinare

Oh Ho !


Munna Ritesh Ab Ayise Na Kaha

Aayib Jarur Chup Aaj Bhar Raha

Chali Na Tohara Se Nata Ho

Kahe ?

Aeh Rahan Par Ehe Bujhata

Khali Johela Tu Ta Sutare

Maan Ja Na !

Ae Bhuwari Mile Aibe Ki Na Re?

Bola Na ! Na Aa Paib !

Ham Johatani Nadiya Ke Kinare?

Kahe La !


A Bhuary Lyrics-Ritesh Pandey In Hindi - Antara Singh - ऐ भुअरी। 


धक्-धक्         धक् -धक् 

धक्-धक्         धक् -धक् 

धक् -धक्  करता जियरवा हो। 

जान लागता डरवा हो। 

अरे मोका प धोखा करबू का?

कुहुकता हिअरवा हो। 

ना - ना  आजू नाही काल्ह भिनसारे। 

समझल ?

ए भुअरी - मिले अईबे की ना रे ?

कईसे सोना ?

हम जोहतानी। 

नदिया के किनारे। 

पागल मत बन। 

माई बिया घरवा दुअरवा प भाई। 

ये हो करेजा कह कईसे आईं ?

अरे एही तरे भरमावेलु। 

खाली हमरा के पागल बनावेलु। 

जानू तोहरे के दिलवा पुकारे। 

ए भुअरी मिले अईबे की ना रे ?

कईसे आईब ?

हम जोहतानी नदिया के किनारे। 

मुन्ना रितेश अब अइसे ना कह। 

आईब ज़रूर चुप आजु भर रह। 

चली ना तोहरा से नाता हो। 

काहें ?

एही रहन प इहे बुझाता हो। 

खाली जोहे ल तू त सुतारे। 

मान जा न। 

ए भुअरी 

बोल न ?

मिले अईबे की ना रे। 

अरे ना आ पाईब। 

हम जोह तानी। 

नदिया के किनारे। 

काहेला ?


Post a Comment

0 Comments